Thursday, June 30, 2022
Home POLITICS ममता बनर्जी की पार्टी में भगदड़, पश्चिम बंगाल के दो दिवसीय दौरे...

ममता बनर्जी की पार्टी में भगदड़, पश्चिम बंगाल के दो दिवसीय दौरे पर अमित शाह

बंगाल में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा की तैयारियों का जायजा लेने के लिए गृह मंत्री और पार्टी के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह..

पश्चिम बंगाल में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा की तैयारियों का जायजा लेने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री और पार्टी के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह शुक्रवार रात राज्य के दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे। उनका यह दौरा ऐसे समय हो रहा है जब सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस बगावत के दौर से गुजर रही है।

कयास लगाए जा रहे हैं कि तृणमूल कांग्रेस और राज्यसभा में कैबिनेट मंत्री का पद छोड़ने वाले प्रभावशाली नेता शुवेंदु अधिकारी, शीलभद्र दत्ता और जितेंद्र तिवारी जैसे तृणमूल कांग्रेस के कुछ असंतुष्ट नेता, अमित शाह के बंगाल दौरे के दौरान भाजपा में शामिल होंगे।

भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अनिल बलूनी द्वारा जारी एक बयान के मुताबिक शाह सप्ताहांत के दौरान विभिन्न कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे।

उन्होंने बताया, ” शनिवार सुबह शाह का एनआईए के अधिकारियों के साथ बैठक करने का कार्यक्रम है। इसके बाद वह उत्तरी कोलकाता स्थित स्वामी विवेकानंद के आवास पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे।

” भाजपा नेता ने कहा, ” इसके बाद शाह मिदनापुर जाएंगे और क्रांतिकारी खुदीराम बोस को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे और दो दिनों में पूजा अर्चना करेंगे। ”

किसान के घर पर भोजन करेंगे

उन्होंने बताया कि इसके बाद गृह मंत्री एक किसान के घर में दोपहर का भोजन करेंगे और फिर मिदनापुर के कॉलेज मैदान में आयोजित जनसभा को संबोधित करेंगे। भाजपा नेता ने कहा, ” ऐसी संभावना है कि तृणमूल कांग्रेस के कई नेता रैली के दौरान भाजपा में शामिल होंगे।

इस रैली के बाद शाह कलक वापस लौट आएंगे और यहां राज्य के नेताओं के साथ बैठक करेंगे और संगठन का जायजा लेंगे। ”

केंद्र और राज्य सरकार के बीच खींचतान

उल्लेखनीय है कि शाह का दौरा केंद्र और राज्य सरकार के बीच बढ़ी खींचतान के बीच हो रहा है, जिसकी शुरुआत गृह मंत्रालय द्वारा तीन आईपीएस अधिकारियों को राज्य सरकार द्वारा कार्य मुक्त कर केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर प्रेषक के निर्देश के बाद हुई।

राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस निर्देश का विरोध करते हुए इसे ‘असंवैधानिक’ और ‘अस्वीकार्य’ करार दिया है।