Sunday, October 2, 2022
Home BOLLYWOOD 'बेल बॉटम' के लिए अक्षय कुमार ने तोड़ा 18 सालों का नियम..

‘बेल बॉटम’ के लिए अक्षय कुमार ने तोड़ा 18 सालों का नियम..

अक्षय कुमार इन दिनों स्कॉटलैंड में 'बेल बॉटम' की शूटिंग कर रहे हैं और इस फिल्म के लिए उन्होंने 18 सालों के नियम को तोड़ दिया है।

अक्षय कुमार इन दिनों स्कॉटलैंड में अपनी अपकमिंग फिल्म ‘बेल बॉटम’ की शूटिंग में व्यस्त हैं। कोरोना वायरस के कहर के बीच अक्षय कुमार स्कॉटलैंड एक चार्टर्ड प्लेन के साथ बाकी कलाकारों और क्रू मेंबर्स के साथ पहुंचे थे। सिर्फ इतना ही नहीं, अभिनेता ने अपना जन्मदिन भी स्कॉटलैंड में ही फिल्म की स्टारकास्ट के साथ सेलिब्रेट किया। इस बात से तो हर कोई वाकिफ है कि अभिनेता समय के पाबंद हैं। पिछले 18 सालों से अक्षय कुमार लगातार 8 घंटे की शिफ्ट में काम करते आ रहे हैं। लेकिन फिल्म ‘बेल बॉटम’ के लिए अक्षय कुमार ने अपने 18 सालों के इस कड़े नियम को तोड़ दिया है। 

स्कॉटलैंड पहुंचे के बाद अक्षय कुमार 14 दिनों के क्वारंटाइन पीरियड के दौरान निर्माताओं को लगातार हो रहे नुकसान से वाकिफ हैं। इसके उन्होंने पूजा एंटरटेनमेंट के लिए 18 साल बाद 8 घंटे काम करने के अपने कार्डिनल नियम को तोड़ने का फैसला किया। अक्षय कुमार ने निर्माताओं का पैसा बचाने के लिए डबल शिफ्ट करने का फैसला किया है। हालांकि अभिनेता के इस फैसले ने सभी को हैरान कर दिया। लॉकडाउन के बाद लोक टीम डबल शिफ्ट में काम कर रही हैं और जैसे ही समय मिलता है वो पैकिंग शुरू करते देते हैं। ताकि वो अधिक से अधिक समय बचा सकें। पूजा एंटरटेनमेंट ने मेंशन किया था कि वो डबल शिफ्ट में भी सभी की भलाई सुनिश्चित करने के लिए सेट पर सुरक्षा मानकों का पालन करने में एक बेंचमार्क सेट करने में कामयाब रहे। 

निर्माता जैकी भगनानी ने इस बारे में बात करते हुए कहा, ‘अक्षय सर वास्तव में एक निर्माता और अभिनेता हैं और उनके साथ काम करना मेरे लिए सौभाग्य की बात है। वो लगातार सभी के बारे में सोच रहे हैं। पूरी यूनिट की सुरक्षा से लेकर शूटिंग के शेड्यूल तक उन्होंने निर्माताओं की चुनौतियों का भी सामना किया है। वो आदमी एकदम खरा सोना है। अक्षय सर 18 साल में पहली बार डबल शिफ्ट कर रहे हैं। इसलिए जब उन्होंने डबल शिफ्ट का सुझाव दिया तो हम बिल्कुल हैरान रह गए थे और उत्साहित भी थे। इस समय सेट पर हरकोई डबल एनर्जी के साथ काम कर रहा है। यह एकदम तेल लगाने वाली मशीनरी की तरह है जो इसे बनाने के लिए चौबीसों घंटे काम करती है।