Friday, December 2, 2022
Home CRICKET NEWS जब पहली बार दुनिया ने देखा ब्रैडमैन का विस्फोटक अंदाज, एक ही...

जब पहली बार दुनिया ने देखा ब्रैडमैन का विस्फोटक अंदाज, एक ही दिन में जड़ा था तिहरा शतक

विश्व क्रिकेट में एक बल्लेबाज हुआ, दाएं हाथ का। कहा जाता है कि जब वह पिच पर बल्लेबाजी कर रहा होता था, तो गेंद सीमा रेखा के बाहर इस तरह पहुंचती, मानो न्यूटन का ग्रेविटेशनल लॉ गेंद को खींच रहा हो। तेज गेंदबाजों के खिलाफ उसकी कलाई ऐसे घूमती मानों कलाई पर मक्खन लगा कर उतरा हो और गेंद खुद-ब-खुद बाउंड्री का रास्ता ढूंढ लेती। उस खिलाड़ी ने जितना भी क्रिकेट खेला आने वाली पीढ़ी के क्रिकेटरों के लिए बेंचमार्क सेट कर गया। उसका नाम क्रिकेट के शब्दकोश का हिस्सा बन गया है और दुनिया उस महान खिलाड़ी को सर डॉन ब्रैडमैन के नाम से जानती है। 

एक दिन में तीन सौ रन…
आज ब्रैडमैन का 112वां जन्मदिवस है। 27 अगस्त 1908 को उनका जन्म ऑस्ट्रेलिया के कूटामुंडरा में हुआ था। उनके जन्मदिन पर उनकी एक ऐतिहासिक पारी कहानी, आज भी एक विश्व रिकॉर्ड है। आज के आधुनिक और फटाफट क्रिकेट के दौर में भी कोई भी बल्लेबाज उस रिकॉर्ड के करीब नहीं पहुंच पाया है। तो जरा अपने दिमाग को ब्रैडमैन की ब्लैक एंड व्हाईट तस्वीरों के इर्द गिर्द घुमाइए और इस ऐतिहासिक पारी की कहानी सुनिए…
11 जुलाई, 1930 एशेज सीरीज का तीसरा मैच, ऑस्ट्रेलियाई कप्तान विलियम मॉल्डन वुडफुल ने टॉस जीता और लीड्स की सपाट दिख रही पिच पर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। मगर उनका फैसला मैच की 11वीं गेंद पर ही गलत साबित होने की ओर बढ़ा गया, जब सलामी बल्लेबाज ऑर्ची जैक्शन पवेलियन लौट गए।

इसके बाद 21 साल का एक युवा बल्लेबाज लीड्स की पहली सुबह 11 गेंदों के बाद बल्लेबाजी करने के लिए ड्रेसिंग रूम से निकला और दिन का खेल खत्म होने के बाद वह नाबाद 309 रन पीटकर लौटा। ये बल्लेबाज कोई और नहीं बल्कि सर डॉन ब्रैडमैन थे। उनके तिहरे शतक के बाद पूरा क्रिकेट जगत सकते में था, एक दिन में तीन सौ रन…